BLOG

मैं, वो गली नहीं बनारस की, जहां से तू बस यू ही मुड़ जाए। मैं तो वो हूँ, जहाँ तू अक्सर लौट के आए, जहाँ, तू, अक्सर लौट के आए।

Scroll to Top